Advertisement

Chandra Grahan 2021 in Hindi | चंद्र ग्रहण कब है जाने ग्रहण पड़ने का समय

Advertisement

Chandra Grahan 2021 in Hindi दोस्‍तो वर्ष का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। जो की 19 नवबंर 2021 को शुक्रवार के दिन पड़ रहा है। यह ग्रहण कार्तिक माह की शुक्‍लपक्ष की पूर्णिका के दिन पड़ने जा रहा है। ध्‍यान रहे इस समय आप सभी को विशेष सावधानीया बरतनी चाहिए। क्‍योकि यह वर्ष का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण व अंतिम चंद्र ग्रहण है। जो 580 वर्षो में लग रहा है। अगर आप इतने वर्षो के बाद पड़ रहा चंद्र ग्रहण के बारे में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अंत तक बने रहे।

Lunar Eclipse 2021 in Hindi (चंद्र ग्रहण 2021)

पंचाग के अनुसार इस बार चांद ग्रहण नवबंर के महीने में पड़ रहा है ज्‍योतिषो व शास्‍त्रो के अनुसार यह चंद्र ग्रहण लगभग 580 साल बाद लगने जा रहा है। जो की इतना लंबा आंशिक ग्रहण देखने को मिलेगा। यह ग्रहण खास तौर पर भारत के उत्तर पूर्वी राज्‍यों में दिखाई देगा। इससे पहले यह ग्रहण 18 फरवरी 1440 में पड़ा था। जो आज पुन: इतने वर्षो के बाद पड़ने जा रहा है।

Advertisement

Chandra Grahan 2021 (चंद्र ग्रहण का समय)

ज्‍योतिषो के अनुसार यह ग्रहण कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन लगेगा। जो भारत में 19 नवबंर 2021 को दोपहर के 12:48 मिनट पर शुरू होगा। और शाम के 04:17 मिनट पर समाप्‍त हो जाऐगा। इस समय के अनुसार चंद्र ग्रहण का योग लगभग 03 घंटे 29 मिनट तक रहेगा। चंद्र ग्रहण की इतनी लंबी अवधि पहले 580 वर्ष पहले देखने को मिला था।

वही भारतीय मानम समयानुसार ग्रहण दोपहर के 12:48 से शुरू होगा और दोपहर के 02:22 पर और मोक्ष शाम के 04:17 पर खत्‍म हो जाऐगा। आपकी जानकारी के लिए बता दे इस चंद्र ग्रहण की अवधि चंद्रमा की पृथ्‍वी से कितनी दूरी है। उसके अनुसार होगी। इस वर्ष चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में होगा इस कारण वृषभ राशि का ज्‍यादा प्रभाव दिखाई देगा।

चंद्र ग्रहण किस नक्षत्र में होगा जाने

ज्‍योतिषो व पंडितो के अनुसार 2021 नवबंर का चंद्र ग्रहण कृत्तिका नक्षत्र में लगेगा। जो की सूर्य का ही एक नक्षत्र माना गया है। इसी कारण जिन लोगो का जन्‍म कृत्तिका नक्षत्र में हुआ है। उन्‍हे सभी प्रकार से सावधनी बरतीन होगी।

भारत में चंद्र ग्रहण का समय

बात करे हमारे देश भारत की तो यहा पर चांद ग्रहण सुबह 11:34 मिनट पर शुरू हो जाऐगा। और शाम के 05:33 मिनट पर समाप्‍त हो जाऐगा। यानी इस ग्रहण की कुल अवधि लगभग 03 घंटे और 26 मिनट तक रहेगी। तथा उपच्‍छाया चंद्र ग्रहण की अवधि 05घंटे 59 मिनट तक रहेगी। आप इस समय के बीच में कोई भी ऐसा कार्य ना करे जिससे आपकाे बाद में समस्‍या आऐ।

ग्रहण के समय इन राशियो वाले लोग सर्तक रहना

Chandra Grahan 2021 in Hindi
Chandra Grahan 2021 in Hindi

ज्‍योतिषो के अनुसार यह चंद्र ग्रहण इन राशियो वाले व्‍यक्तियो पर बहुत भारी रहेगा। जो है- वृषभ, तुला, कुंभ, और सिंह इन सभी राशियो के लाेग सर्तक रहे। जैसे की व्‍यर्थ के विवादों से बचाव रहे, लड़ाई झगड़ से दूरिया रखे। किसी भी आर्थिक निर्णय से पहले विचार विमर्श करके ही कोई फैसला ले। पंडितो से अपना हाथ दिखाकर किसी को दान पुण्‍य आदि करे।

चंद्र ग्रहण इन राशियों के लोगो के लिए सही रहेगा। वो सभी है- वृश्रिचक राशि, और कृतिका नक्षत्र में होगा। इस कारण इस रक्षत्र व राशि में जन्‍मे लोगो पर ग्रहण का ज्‍यादा प्रभाव रहेगा। वही ज्‍योतिषो की गणना के अनुसार मिथुन, वृश्रिचक , कमर, और कन्‍या राशि के जात‍कों पर होगा। इन सभी राशियो के लोगो को आर्थिक लाभ होगा तथा नकारात्‍म विचारो से मुक्ति मिलेगी।

Advertisement

59 वर्ष बाद राशि का योग ऐसा

जो भी गुरू व शनि मकर राशि में स्थित है। और आंशिक ग्रहण हो रहा है तो गुरू शनि मकर राशि में चांद्र ग्रहण का योग आज से 59 साल पहले 19 फरवरी 1962 में हुआ था। जो अब 19 नवबंर को वृषभ राशि में हो रहा है। चांद इसी राशि में रहेगा किन्‍तु भारत के कुछ ईलाके मणिपुर, इंफाल, और आसपास के क्षेत्रों में चांद ग्रहण कुछ समय के लिए ही दिखाई देगा। जबकी असम, अरूणाचल पद्रश के सभी क्षेत्रो में चंद्र ग्रहण अच्‍छे से नजर आऐगे।

भारत में उत्तरी व पूर्वी राज्‍यो में स्‍पस्‍ट चांद ग्रहण दिखाई देगा। वही भारत के अलावा अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, प्रशांत महासागर, ऑस्‍ट्रेलिया, एंटार्कटिका आदि देशो व व महादिपो में देखने को मिलेगा। य‍ह चंद्र ग्रहण इस साल का आखिरी चांद ग्रहण होगा। इसके बाद 08 दिसंबर 2022 में चंद्र ग्रहण पुन: देखने को मिलेगा।

चंद्र ग्रहण कब होता है

विज्ञान के अनुसार जब चंन्‍द्रमा व सूर्य के बीच में पृथ्‍वी आ जाती है। तो चंद्र ग्रहण होता है। अर्थात सूर्य और चंद्रमा के बीच में पृथ्‍वी के आ जाने पर सूर्य की एक भी रोश्‍नी चंद्रमा तक नही पहुच पाती है। और इसी घंडी को चंद्र ग्रहण कहा जाता है।

चंद्र ग्रहण कितने प्रकार के होते है

शायद आप में से बहुत कम लोग यह जानते होगे की चंद्र गहण तीन प्रकार का होता है।

  • पूर्ण चंद्र ग्रहण :- पूर्ण चंद्र ग्रहण में चन्‍द्रमा पूरा छिप जाता है। और चारो तरफ अधेरा हो जाता है। उसे ही पूर्ण चंद्र ग्रहण करते है।
  • आंशिक च्रंद्र ग्रहण :- इस ग्रहण में चंद्रमा आधा दिखाई देता है जिसे आंशिक चंद्र ग्रहण कहते है।
  • उपछाया चन्‍द्र ग्रहण

आपको बता दे दोस्‍तो चंद्र ग्रहण के समय किसी भी गर्भवती स्‍त्री को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। क्‍योकि चांद ग्रहण का असर सीधा गर्भ में पल रहा बच्‍चे के ऊपर पड़ता है। तथा इस दिन गर्भवती स्‍त्री को नुकीली व धादार वस्‍तु जैसे कैची, चाकू, थैनी आदि का उपयोग नही करना चाहिए।

  • चांद्र ग्रहण खत्‍म होने के तुरंत सभी परिवार वाले पानी में गंगाजल मिलाकर स्‍नान करे।
  • जिसके बाद घर के मंदिर को और पूरे घर को गंगाजल के धूब या फिर डाब से छिटे देकर घर को पवित्र करे।
  • इसके बाद तुलसी के पेड़ में गंगाजल के छीटे देकर पेड को शुद्ध करे।

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको चंद्र ग्रहण Chandra Grahan 2021 in Hindiके बारे में विस्‍तार से बताया है। यदि लेख में ऊपर दी गई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने दोस्‍तो के पास शेयर करे। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद

यह भी पढ़े-

प्रश्‍न:- चंद्र ग्रहण कब है।

Advertisement

उत्तर:- 19 नवबंर 2021

प्रश्‍न:- पंचाग के अनुसार ग्रहण कब पडेगा।

उत्तर:- कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन

प्रश्‍न:- 19 नवबंर को होेने वाला ग्रहण कौनसा है।

उत्तर:- आंशिक चंद्र ग्रहण

प्रश्‍न:- चांद ग्रहण कौनसे नक्षत्र में पड़ रहा है।

उत्तर:- कृत्तिका नक्षत्र में

प्रश्‍न:- आंशिक ग्रहण कितने वर्षो के बाद पड रहा है।

उत्तर:- 580 वर्ष बाद

प्रश्‍न:- इससे पहले आंशिक चांद ग्रहण किस वर्ष में पड़ा था।

उत्तर:- 18 फरवरी 1440 में

You may also like our Facebook Page & join our Telegram Channel for upcoming more updates realted to Sarkari Jobs, Tech & Tips, Money Making Tips & Biographies.

Leave a Comment