Advertisement

Indira Gandhi Biography in Hindi | इंदिरा गॉंधी का जीवन परिचय व पुण्‍यतिथि के बारे में पढ़े

Advertisement

Indira Gandhi Biography in Hindi दोास्‍तो आप सभी जानते है भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गॉंधी, एक ऐसी महिला जो न केवल भारतीय राजनीति पर छाई रही। बल्‍कि पूरे विश्‍व की राजनीति के क्षितिज पर भी वह विलक्षण प्रभाव छोड़ गई। जिस कारण आज इसे पूरे विश्‍व में लौह महिला के नाम से भी जाना जाता है। अर्थात दुनिया की चौथी मह‍िला प्रधानमंत्री व भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गॉधी जी की बात कर रहे है। ऐसे में आप इंदिरा गॉंधी जी के बारे में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अन्‍त तक बने रहे।

इंदिरा गॉधी का परिचय

जन्‍म 19 नवबंर 1917
जन्‍म स्‍थान इलाहबाद (उत्तरप्रदेश)
माता-पिता जवाहर लाल नेहरू व कमला नेहरू जी
पति फिरोज गॉंधी जी
पुत्र राजीव गॉंधी व संजय गॉधी
पुत्रवधुऍं श्रीमती सोनिया गॉंधी व मेनका गॉधी जी

इंदिरा गॉधी जी का जन्‍म 19 नवबंर 1917 को उत्तर प्रदेश के इलाहबाद जिले में हुआ था। इनके पिता जवाहर लाल नेहरू व माता कमला नेहरू जी थे। जो दोनो की इकलौती संतान थी। और इन्‍होने सन 1934-35 में अपनी प्रारंभिक शिक्षा को पूरी किया। जिसके बाद श‍ान्तिनिकेतन विश्‍व भारती विद्यालय में प्रवेश लिया। जब ऐ रवीन्‍द्रनाथ टैगोर जी से मिली तो उन्‍होने इनका नाम ”प्रियदर्शिनी’7 रखा। जिसके बाद यह अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए इंग्‍लैड चली गई।

Advertisement

इंदिरा गॉधी का वैवाहि जीवन (Indira Gandhi Biography in Hindi)

वहा जाकर इन्‍होने ऑक्‍सफोर्ड विश्‍वविद्यालय में प्रवेश परीक्षा में बैठी किन्‍तु ऐ विफल रही। जिसके बाद ब्रिस्‍टल के बैडंमिटर स्‍कूल में पढाई की और सन 1937 में परीक्षा में सफल रही। जिसके बाद सोमरविल कॉलेज ऑक्‍सफोर्ड में प्रवेश लिया था। और इसी कॉलेज में इनकी मुलाकात फिरोज गॉधी जी से हुई। जिसके बाद दोनो ने 16 मार्च 1942 में आनंद भवन इलाहाबाद के एक निजी आदि धर्म ब्रह्म वैदिक समारोह में विवाह किया। शादि के बाद फिरोज गॉधी और इंदिरा गॉधी के दो बच्‍चे हुऐ राजीव गॉधी व सजयं गाधी।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की इंदिरा का विवाह फिरोज गॉधी जी हुआ था। किन्‍तु फिरोज जी का महात्‍मा गॉधी से कोई रिश्‍ता व तालुक नही था। फिरोज तो एक पारसी धर्म के युवा थे। जबकि इंदिरा हिन्‍दू धर्म की थी। उस समय अंतर जातीय विवाह इताना आसन नही था किन्‍तु जब महात्‍मा गॉधी जी इन दोनो के विवाह का समर्थन दिया। तो इनके पिता चाचा नेहरू जी भी मान गऐ।

जिसके बाद सन 15 अगस्‍त 1947 मे देश को आजादी मिल गई और भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को बना दिया गया। और इंदिरा गॉधी भी अपने पति व दोनो बच्‍चों के साथ अपने पिता के यहा शिफ्ट हो गई थी।

इंदिरा गॉधी का राजनीति जीवन ()

दिल्‍ली आने के बाद इंदिरा गॉधी जी अपने पिता के साथ राजनीति में भाग लेने लगी। और कुछ दिनो में इनकी राजनीति में बहुत ज्‍यादा रूचि बन गई। जिसके बाद सन 1951-52 में हुऐ लोकसभा चुनावों में इंदिरा जी ने अपने पति फिरोज गॉधी को खड़ा कर दिया। किन्‍तु वो नई जीत पाऐ और 8 सितम्‍बर 1960 में फिरोज गॉधी की हृदय का दौरा(हार्टअटैक) पड़ने से मृत्‍यु हो गई।

जिसके बाद सन 1960 में इंदिरा को इंडियन नेशन कांग्रेस पार्टी का प्रेसिडेंट चुना गया। जो जवाहर लाल नेहरू की प्रमुख एडवाइजर टीम में शामिल थी। इसके बाद 27 मई 1964 को इंदिरा गॉधी के पिता जवाहर लाल नेहरू की भी मृत्‍यु हो गई। जिसके बाद इंदिरा गॉधी ने स्‍वयं ने चुनाव लड़ने का निर्णय लिया। और वो काफि अच्‍छे बहुत से जीव गई जिसके बाद लाल बहादुर शास्‍त्री की सरकार में इनफार्मेशन एंड ब्रांककास्टिंग मंत्रालय दिया गया।

11 जनवरी 1966 को लाल बहादुर शास्‍त्री जी का देहांत होने के बाद अंतिम चुनावो में बहुमत हासिल की और देश के प्रधानमंत्री का कार्यभर संभाला।

Advertisement

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको इंदिरा गॉधी जी के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। यदि आपको हमारे द्वारा प्रधान की गई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने मिलने वालो के पास शेयर करे। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद

Leave a Comment