Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana~मुख्‍यमंत्री श्रमिक संबल योजना क्‍या है जानिए

Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana:- राजस्‍थान सरकार ने राज्‍य के असंगठित क्षेत्र के निर्माण श्रमिक कल्‍याण कोष में रजिर्स्‍टड मजदूर व चिन्हित स्‍ट्रीट वैंडर्स के लिए बहुत खास स्‍कीम लेकर आई है। नाम है मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना. इसमें श्रमिक या उसके परिवार को किसी प्रकार की शारीरिक समस्‍या आने पर आर्थिक सहायता दी जाती है। आइये जानते है यह सहायता कब व कितनी दी जाती है

Shramik Sambal Yojana

मुख्‍यमंत्री सीखो कमाओं योजना रजिस्‍ट्रेशन

राजस्‍थान सरकार आमजन को अनेक प्रकार की सुविधा उपलब्‍ध करवाने के उद्देश्‍य से कई योजनाए चलाई हुई है इसी प्रकार 14 जून 2023 को मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोती जी ने राज्‍य में असंगठित क्षेत्र के निर्माण श्रमिक कल्‍याण कोष के तहत पंजीकृत सभी श्रमिकों व चिन्हित स्‍ट्रीट वैंडर्स व उसके परिवार को अस्‍पताल में भर्ती एडमिट होने के समय राहत पहुँचाने के लिए Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana का सहमति दे दी है।

मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना/Rajasthan Shramik Sambal Yojana Details

योजना का नाम मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना (CM Chiranjeevi Shramik Sambal Scheme Rajasthan)
किसने शुरू करी मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत राजस्‍थान
कब शुरू हुई जून 2023
उद्देश्‍य हॉस्पिटल में भर्ती होने के दौरान मिनिमम सहायता देना है
लाभार्थी श्रमिक और स्‍ट्रीट वेंडर
सहायता राशि 200 रू से 1400रू
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन व ऑफलाइन
ऑफिशियल वेबसाइट ————————–

मुख्‍यमंत्री श्रमिक संबल योजना क्‍या है/Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana

राजस्‍थान क्षेत्र के स्‍थानीय निवासी रहड़ी वाला, सब्‍जी वाला, फल वाला, श्रमिक व स्‍ट्रीट वेंडर्स. जो असंगठित क्षेत्र के निर्माण श्रमिक कल्‍याण कोष में पंजीयन है। इनको या इनके परिवार के किसी सदस्‍य को किसी प्रकार की शारीरिक समस्‍या जैसे बुखार, खांसी, जुकाम या बीमार होने पर अस्‍पताल में भर्ती करवाने के दौरान आर्थिक सहायता ईलाज हेतु दी जाती है। यह राशि अधिकतम 07 दिनों के लिए मिलती है.

प्रतिदिन लाभार्थी को उपचार हेतु 200रू की राशि मिलती है जो 7 दिन में 1400रू की होती है। यानी लाभार्थी व्‍यक्ति को उपचार हेतु राजस्‍थान सरकार ‘मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना के तहत 7 दिन के 1400रू देती है। बीमारी होने पर 24 घंटे के अंदर किसी अस्‍पताल में भर्ती करवाने पर यह राशि मिलेगी. श्रमिक की अस्‍पताल में मृत्‍यु होने पर योजना के तहत सहायता प्राप्‍त की जा सकेगी।

श्रमिक संबल योजना के तहत भर्ती के समय दैनिक मजदूरी समाप्‍त होने की स्थिति में श्रमिक के खाते में ऑटो डीबीटी के माध्‍मय से प्रतिदिन 200रू मिलते हे। जिसके लिए सरकार ने योजना में कुल 100 करोड़ रूपये का बजट पेंश किया है।

सरकार की इस योजना से मिलेगा 4 लाख लोगों को लाभ,

राजस्‍थान चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना में मिलने वाली राशि

राजस्‍थान राज्‍य की जो चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना है उसमें राज्‍य के समस्‍त पंजीकृत श्रमिक या स्‍ट्रीट वेंडर्स को अस्‍पताल में एडमिट होने की स्थिति में सरकार 200रूपये से लेकर 1400रूपये तक की सहायता राशि प्रदान करती है। यह राशि लाभार्थी के बैंक खातें में आती है जो लाभार्थी को अधिकतम 7 दिन के लिए प्रतिदिन 200रूपये के हिसाल से 1400रूपये आते है।

Shramik Sambl Yojana का लाभ

  • इस योजना का लाभ केवल उन श्रमिको व स्‍ट्रीट वेंडर्स्‍ को दिया जाएगा जिनका नाम असंगठित क्षेत्र के निर्माण श्रमिक कल्‍याण राजस्‍थान में पंजीकृत है।
  • श्रमिक का आर्थिक संबल केवल बीमारी के दौरा अस्‍पताल में भर्ती करवाने पर उपचार हेतु दिया जाएगा।
  • यह आर्थिक संबल 7 दिनों तक मिलेगा. प्रतिदिन 200रू होगा जो कुल 1400रू की राशि होगी।
  • श्रमिक को लाभ होगा की उसे दवाई, जांच आदि का भुगतान मिल जाएगा. उसे अपनी जेब से खर्च करने की आवश्‍यकता नहीं होगी।
  • इसीलिए इस योजना से एक श्रमिक का उपचार किसी किसी व्‍यय के हो सकेगा।
  • राजस्‍थान की चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना का लाभ श्रमिक व उसके परिवारों को मिलेगा।
  • मतलब यदि लाभार्थी के परिवार को बीमारी के दौरान अस्‍पताल में भर्ती करवाया जाता है तो उसे भी 1400रू की राशि मिलेगी।

Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana का उद्देश्‍य

राजस्‍थान सरकार द्वारा आरंभ की गई मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना का उद्देश्‍य बीमारी के दौरान हॉस्पिटल में भर्ती होने पर सहायता देना है। आप भी इस बात से परिचित है की एक मजदूर के पास इतने पैसे नहीं होते की वह अपना व अपने परिवारा का उपचार अच्‍छे से करवा सके। उसे कही से उधार लेकर ही करवाना पड़ता है जिससे उसकी आर्थिक स्थिति में गिरावट हो जाती है। श्रमिक संबल योजना के शुरू होने पर अब श्रमिक भी अपना उपचार समय पर सही तरीके से करवा सकेगे।

Shramik Sambal आवश्‍यक दस्‍तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • चिरंजीवी कार्ड
  • श्रमिक कार्ड
  • बैंक खात विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • आयु प्रमाण
  • हॉस्पिटल से जुड़े दस्‍तावेज
  • फोटो आदि

इन महिलाओं को मिलेगी दूसरी किस्‍त जानिए कैसे

मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना की पात्रता

  • चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना का लाभ केवल राजस्‍थान राज्‍य के स्‍थानीये निवासी को मिलेगा।
  • जो राजस्‍थान के असंगठित क्षेत्र में निर्माण श्रमिक कल्‍याण में पंजीकृत है
  • लाभ उस स्थित‍ि में मिलेगा. जब आप बीमारी के समय में 24 घंटे के अन्‍दर ही अस्‍पताल में भर्ती करवा देते है।
  • इस योजना का लाभ केवल उन श्रमिका व स्‍ट्रीट वेंडर्स को मिलेगा. जिनकी आयु 25 साल से 60 साल के मध्‍य में है।

मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना आवेदन करें/Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana Registration

राजस्‍थान सरकार की इस स्‍कीम में आप पूरी पात्रता व दिशा निर्देश अनुसार योग्‍य है तो अभी आपको आवेदन हेतु थोड़ा समय रूकना होगा। क्‍योंकि राजस्‍थान सरकार ने श्रमिक संबल योजना की कोई भी ऑफिशियल वेबसाइट जारी नहीं करी है। अत: जैसे ही योजना से जुड़ी काई जानकारी मिलती है तो आपको इस आर्टिकल में अपडेट कर दिया जाएगा।

महाराष्‍ट्र सरकार श्रद्धालुओं को 05 लाख रू. दे रही है जानिय कैसे

आज आपको राजस्‍थान सरकार की मुख्‍यमंत्री चिरंजीवी श्रमिक संबल योजना के बारें में बताया है जो केवल नोटिफिकेशन व न्‍यूज बेस पर बताया है। इस प्रकार अन्‍य राज्‍य के नई स्‍कीम के बारें में पढ़ना चाहते है तो वेबसाइट के साथ बने रहिए। और यदि आपके पास कोई सवाल है तो कमेंट करके अवश्‍य पू‍छे धन्‍यवाद

महत्‍वपूर्ण लिंक

होम पेज यहा पर क्ल्कि करें
अधिकारीक वेबसाइट यहा पर क्ल्कि करें

2 thoughts on “Mukhyamantri Chiranjeevi Shramik Sambal Yojana~मुख्‍यमंत्री श्रमिक संबल योजना क्‍या है जानिए”

  1. Pingback: Ladli Behna Yojana~इन लाड़ली बहनाओं को मिलेगें 5000रू. जानिए, लाड़ली बहना योजना

  2. Pingback: Free Mobile Yojana~अब केवल इन महिलाओं को मिलेगा फ्री में स्‍मार्ट मोबाइल फोन जानिए, फ्री मोबाइल योजना

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top