Naag Diwali 2021 in Hindi | नाग दिवाली कब है जानिऐ पौराणिक कथा व महत्‍व

Advertisement

नाग दिवाली 2021:- दोस्‍तो नाग दिवाली प्रतिवर्ष मार्गशीर्ष के महीने में मनाई जाती है जो इस वर्ष सूर्य ग्रहण के चार दिन बाद मनाई जाएगी अर्थात 08 दिसबंर 2021 नाग दिवाली का उत्‍सव मनाया जाऐगा। मान्‍यताओ के अनुसार इस दिन नागों की पूजा की जाती है जो पाताललोक के स्‍वामी है। इसी कारण नाग दिवाली उनके लिए विशेष रहता है। इस त्‍यौहार पर अपने-अपने घरो में रगं बिरंगी रंगोलिया बनाई जाती है। तथा नाग देवो की मूर्ति बनाकर उनकी पूजा करने का विधान है। ऐसे में यदि आप नाग दिवाली के बारे में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अतं तक बने रहे।

नाग दिवाली का महत्‍व (Naag Diwali 2021)

Naag diwali 2021

पौराणिक मान्‍यताओ के अनुसार मार्गशीर्ष मास की शुक्‍लपक्ष की पंचमी को नाग दिवाली के रूप में मनाई जाती है। इसके अलावा इस दिन विवाह पंचमी अर्थात श्रीरामविवाह उत्‍वसव भी मनाया जाता है। शास्‍त्रो में उल्‍लेख मिलता है की पाताल लोक पर नागो का राज है। जिस कारण नागो को पाताललोक का स्‍वामी कहा गया है।

Advertisement

नाग दिवाली वाले दिन अपने घरो में अनेक प्रकार की रंगोली बनाकर घरो को सजाया जाता है तथा एक दिवार पर नाग देवता का चित्र बनाकर उसके सामने घी का दीपक जलाया जाता है। तथा विधिवत रूप से इसकी पूजा की जाती है। कहा जाता है नाग दिवाली वाले दिन जो कोई व्‍यक्ति नागो की पूजा करता है उसके जीवन से नागदोष (कालसर्प दोष) मुक्‍त हो जाता है।

नाग दिवाली 2021 तिथि (Naag Diwali Date and Time)

वैसे तो नागदिवली प्रतिवर्ष मार्गशीर्ष मास की पंचमी को आती है किन्‍तु पंचाग के अनुसार इस साल नाग दिवाली 08 दिसबंर 2021 बुधवार के दिन पड़ रही है। जिसकी शुरूआत 07 दिसबंर 2021 को रात्रि के 11:40 मिनट पर हो रही है। तथा नाग दिवाली पर्व का समापन 08 दिसबंर 2021 को रात्रि के 09:25 मिनट पर हो रही है।

ध्‍यान रहे 08 दिसबंर 2021 को नाग दिवाली वाले दिन राहुकाल का दोष दोपहर 12:17 से लेकर दोपहर 01:35 तक रहेगा। तो आप इस अशुभ दोष के बीच में नाग देवता की पूजा ना करे। अर्थात शुभ मुहूर्त में ही नाग दिवाली का उत्‍सव मनाऐ।

नाग दिवाली कैसे मनाई जाती है जाने

खास तौर पर यह त्‍यौहार उत्तराखंड व इंदौरा आदि जगहो पर बड़े ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। उत्तराखंड के चमोली गाव में नाग देवता का बहुत विशाल मंदिर है कहा जाता है की यह मंदिर बहुत प्राचीन समय का है अर्थात माता पार्वती के भाई लाटू ने बनवाया था। और तभी से यह मंदिर मौजूद है।

इसके अलावा नागराज का मंदिर इंदौरा शहर के सुदामानगर में स्थित कालेश्‍वर धाम में भी है। जहा पर पूजा के दौरा शंको व मंत्रो की ध्‍वनि गूजती है। इन दोनो स्‍थानो पर मार्गशीर्ष मास की शुक्‍लपक्ष की पंचमी वाले दिन भव्‍य मेला लगता है। इस मेले में लाखो श्रद्धालु दूर-दूर से आते है। और नागदेवता की पूजा करके अपनी इच्‍छाऐ प्रकट करके उन्‍हे पूर्ण करने की प्रार्थना करते है।

नागो की पौराणि‍क कथा (Naag Diwali Katha)

नाग दिवाली 2021
नाग दिवाली 2021

उत्तराखंड के चमोली जिले के किसी गॉव में नाग देवता का प्राचीन मंदिर है जो आज भी बड़ा रहस्‍यमय मंदिर है। कहा जाता है की इस मंदिर में नाग मणि मौजूद है और उसकी सुरक्षा स्‍वयं नागराज देवता करते है। पुराणो के अनुसार इस मंदिर का निर्माण माता पार्वती का भाई लाटू के नाम पर बनवाया गया था। जो आज भी मौजूद है

Advertisement
Advertisement

यह के स्‍थानीय लोगो का कहना है की मंदिर में नागमणि है और उस मणि की रक्षा नाग देवता स्‍वयं करते है जिस कारण नाग देव अपने मुह से लगातार फुफकार के सहारे अपना विष छोड़ते रहते है। ताकी जो कोई उस मणि को हाथ लगाऐ वह तुरंत मृत्‍यु को प्राप्‍त हो जाऐ। और कहा जाता है की इस मणि की रोशनी इतनी तेज है की व्‍यक्ति उसकी तेज रोशनी से अंधा हो जाता है।

यह मंदिर एक वर्ष में एक ही बार खोला जाता है जो वैशाख माह की पूर्णिमा के दिन इस मंदिर के कपाट खोलते है। तथा मंदिर का पुजारी अपनी आंख व मुंह पर पट्टी बांधरक नागराज की पूजा करता है। ताकी उसके जहरीले विष से कोई नुकसान ना हो। इस दिन बहुत संख्‍या में लोग पूजा के लिए आते है तथा नागराज की मूर्ति से करीब 80 फीट की दूरी से ही पूजा करते है।

जिस दिन मंदिर के कपाट खोले जाते है उस दिन काफी विशाल मेला लगता है तथा कई प्रकार के मनोरंजन कराऐ जाते है। वैशाख पूर्णिमा के दिन मंदिर में विष्‍णु सहस्‍त्रनाम का पाठन किया जाता है। और यहा के स्‍थानीय लोग लाटू को अपना अराध्‍य देवता मानते है। जिस कारण प्रतिवर्ष यहा पर मार्गशीर्ष माह की पंचमी को नाग दिवाली का पर्व मनाया जाता है। जो बड़ी धूम-धाम से मनाते है।

भौगोलिक दृषि के अनुसार इस मंदिर की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 8500 फीट ऊंचा है। कहा जाता है जो कोई व्‍यक्ति सच्‍चे भाव से नाग देवता की पूजा करता है तो उसकी सभी मनोकामनाए पूर्ण होती है।

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको नाग दिवाली के बारे में विस्‍तार से बताया है। यदि आपको लेख में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने मिलने वालो के पास शेयर करे ताकी वो भी इस खास पर्व को बारे में विस्‍तार से जान सके। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछ। धन्‍यवाद

यह भी पढ़े-

You may also like our Facebook Page & join our Telegram Channel for upcoming more updates realted to Sarkari Jobs, Tech & Tips, Money Making Tips & Biographies.

Advertisement

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *