PM Kusum Yojana Price List : प्रधानमंत्री कुसुम योजना क्‍या है Kusum Yojana Online Apply

Advertisement

कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन, PM Kusum Yojana, प्रधानमंत्री कुसुम सोलर योजना, PM Kusum Launch Date, पीएम कुसुम सोलर योजना, PM Kusum Official website, पीएम कुसुम योजना , PM Kusum Solar Pump Yojana , प्रधानमंत्री कुसुम सोलर योजना, PM Kusum Solar Power Plant, कुसुम सोलर पंप योजना, PM Kusum Solar Yojana Subsidy,

Pradhand Mantri Kusum Sola Pump Yojana :- आप सभी जानते है सरकार देश के किसानो को विभिन्‍न-विभिन्‍न प्रकार के लाभ व सुविधा देने के लिए अनको प्रकार की सरकारी योजनाए चलाती है। इस बार भी केन्‍द्र सरकार देश के किसानों भाईयों को कृषि हेतु फायदा देने के लिए पीएम कुसुम योजना की शुरूआत की है। जिसका लाभ उठाकर किसान अपने-अपने खेतों में सोलर पैनल उपकरण लगाकर फसलों में समय-समय पर सिचांई की पूर्ति कर सकते है। इसके साथ ही आप इस स्‍कीम के बारें में अधिक जानकारी प्राप्‍त करना चाहते है तो हमारे लेख के अंतिम शब्‍दों तक बने रहिये।

Advertisement

प्रधानमंत्री कुसुम योजना कब शुरू हुई

देश के किसान भाईयो को ऊर्जा और जल सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ उनकी हर वर्ष आमदनी बढ़ाने और खेती के क्षेत्र को डीजल से बिल्‍कुल मुक्‍त कराने के अलावा इस पर्यावरणीय प्रदूषण को कम करने के लिए हमारी सरकार ने दिनांक 19 फरवरी 2019 को पूरे देश में प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM Kusum Scheme) को शुरू किया था।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना क्‍या है (Pradhan Mantri Kusum Yojana Kya Hai)

PM Kusum Yojana, पीएम कुसुम योजना ,
PM Kusum Yojana

PM Kusum Solar Pump Yojana केन्‍द्र व राज्‍य सरकार के किसानों की हर प्रकार से मदद के लिए सरकार कई प्रकार की योजनाऐं चलाती है जिसमें से एक है पीएम कुसुम योजना जिसके माध्‍यम से सभी कृषकों को सोलर पंप लगाने के लिए सरकार स्‍वयं सब्सिडी की सुविधा देती है। जिसके पश्‍चात सोलन पैनल लगाने में किसानों को केवल 20 से लेकर 30 प्रतिशत खर्चा स्‍वयं को उठाना पड़ता है। हमारे देश में तेजी से बढ़ते हुए प्रदूषण व जलवायु परिवर्तन (Global Warming) को खतरे में देखते हुए सोलर एनर्जी के सेक्‍टर को सभी प्रकार से बढ़ावा दे रही है।

PM Kusum Solar Power Plant:- इसमें आपको सरकार की ओर से सौर ऊर्जा लगवाने हेतु 60 प्रतिशत खर्चा उठायेगी और बाकी 30 प्रतिशत खर्चा बैंक के माध्‍यम से भुगतान कर सकते है। अब योजना का फायदा होगा की देश में प्रदूषण कम होगा और किसान भी समय पर ही अपनी फसलों की सिंचाई कर सकेगे। जिससे उनकी फसल अच्‍छी होगी और पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष उनकी आमदनी में बढ़ोत्तरी होगी।

Highlights of PM Kusum Salar Pump Yojana

स्‍कीम का नाम प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा उत्‍थान महाअभियान (PM Kusum Yojana)
कब शुरू हुई वर्ष 2019 में
किसने शुरू की प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी
उद्देश्‍य किसानों को सस्‍ती दर पर सिंचाई उपकरण उपलब्‍ध कराना
लाभार्थी देश के कृषक (किसान)
PM Kusum Yojana
Official Website
https://pmkusum.mnre.gov.in/landing.html

कुसुम योजना में सरकार कितने प्रतिशत सब्सिडी देती है / कुसुम योजना में कितना खर्चा आता है

सरकार आपको सोलर पंप लगाने के लिए कुसुम स्‍कीम के माध्‍यम से 60 प्रतिशत सब्सिडी देती है और बाकी 30 प्रतिशत लोन आप बैंक से उठा सकते है। जिसके बाद आपको लगभग 10,000/- रूपये की लागत आपको खुद को लगानी पड़ती है पर भारत के पूर्वोत्तर राज्‍यों में जैसे- हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम, जम्‍मू व कश्‍मीर, लद्दाख, लखद्वीप, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह आदि। यहा पर केन्‍द्र सरकार सौलर पैनल लगावाने के लिए किसानों को 50 प्रतिशत हिस्‍ता देती है।

PM Kusum Solar Power Plant Yojana के अनुसार स्‍टैण्‍ड अलोन पंप की बेंचमार्क लागत (एम.एन.आर.ई. द्वारा प्रतिवर्ष निर्धारित) के लिए 30 प्रतिशत केन्‍द्रीय वित्तीय सहायता (CFA) प्रदान की जाती है। और राज्‍य सरकार आपको 30 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करती है जो कुल मिलाकर 60 %सब्सिडी होती है जो सरकार द्वारा दी जाती है। शेष बकाया 40 प्रतिशत किसान द्वारा भुगतान किया जाता है जिसमें से चाहे तो वह 30 प्रतिशत बैंक से लोन प्राप्‍त कर सकता है। जिसमें किसान को पंप लागाने की लागत 10 प्रतिशत लगती है।

पीएम कुसुम योजना का उद्देश्‍य क्‍या है

आप सभी जानते है देश में अधिकतर क्षेत्र ऐसें है जहा पानी की कमी होने के कारण किसानों को कृषि करने में अनेक प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। आज भी बहुत से प्रदेश ऐसें है जहा डीजल के उपकरणों से फसलों की सिंचाई की जाती है पर कई बार किसान समय पर डीजल उपलब्‍ध नहीं करा पाता है जिससे फसल पर समय से सिंचाई नहीं कर पाता है। जिससे उसकी फसल सूख जाती है इस प्रकार की अनेक समस्‍याओं का निवारण करने हेतु सरकार ने प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा उवं उत्‍था महाअभियान चलाया है। जिसे सभी पीएम कुसुम योजना के नाम से पुकारते है।

Advertisement
Advertisement

इस अभियान के माध्‍यम से सरकार किसानों को सिंचाई हेतु सौलर उपकरण लगवाने के लिए आर्थिक मदद करती है। जिसमें 60 प्रतिशत खर्चा सरकार उठाती है और बकाया राशि किसान जिसमें से चाहते तो किसान 30 प्रतिशत खर्चा लोन लेकर उठा सकता है। जिससे उस पर केवल 10 प्रतिशत पैसा खर्च करके सौलर पैनल लगवा सकता है। और समय-समय पर अपनी फसलों की सिंचाई करके अपनी आय में वृद्धि कर सकता है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना सोलर पैनल

विद्युत आपूर्ति हेतु प्रदान की जा रही वार्षिक सब्सिडी के उपयोग द्वारा पांच से छ: वर्षो में हो जाएगी। उसके बाद सौर विद्युत की उपलब्‍धता नि:शुल्‍क हो जाएगी, सौर विद्युत संयंत्र की स्‍थापना हेतु केन्‍द्र सरकार द्वारा कैपेक्‍स/ रेस्‍को मोड के लिए 30% वित्तीय सहायता प्रदान करती है। शेष पूर्वीत्तर राज्‍यों को छोड़कर क्‍योंकि यहा 50 प्रतिशत वित्तीय सहायता केन्‍द्र सरकार देती है। शेष राशि राज्‍य नाबार्ड/पीएफसी/आरईसी से लोन के माध्‍यम से प्राप्‍त कर सकते है।

किसान ज्‍यादातर रात्रि के समय फसलों की सिंचाई करते है जिससे चलते जल की काफ‍ी बर्बादी होती है। क्‍योंकि पंप को एक बार शुरू करने के बाद छोड़ दिया जाता है और वह पानी बहकर बर्बाद होता रहता है। पीएम-कुसुम योजना के तहत सिंचाई के लिए सौर विद्युत प्रदान किये जाने से किसानों काे निश्‍चत तौर पर दिन के समय बिजली उपलब्‍ध होगी। जिससे उनके लिए सिंचाई में आसानी होगी और जल व विद्युत के अति उपयोग को रोका जाएगा।

कुसुम योजना में किसानों को डीजल मुक्‍त कराना

PM Kusum Solar Power Plant:- अधिकतर किसान डीजल पंपों को हटाकर बिजली के पंप लगाने की मांग करते आ रहे है क्‍योंकि डीजल पंपो को चलाना किसानों को बहुत ज्‍यादा मंहगा पड़ता है। डीजल पंपों के स्‍थानों पर सौर पंपो लगाने से किसान कों फसलों की सिंचाई के लिए सस्‍ती और अधिक भरोसेमंद बिजली मिलेगी। जिसके परिणाम स्‍वरूप डीजल के खर्च की बचत होगी और किसानों डीजस से मुक्‍त हो जाएगें। इसके अलावा सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने की सबसे अधिक महत्‍वपूर्ण नीतिगत प्राथमिकताओं पर जोर देती है। वो इसलिए की डीजल बहुत मंहगो होने के कारण किसान को बचत नहीं होती है। पर अब ऐसा नीं होगा क्‍योंकि डीजल से मुक्‍त हो जाएगी साथ ही किसानों का समय भी बचेगा, इस प्रकार किसानों की आय में वृद्धि होगी।

कुसुम योजना का लाभ (Kusum Yojana Benefits )

  • सरकार द्वारा चलाई गई प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM Kusum Solar Pump Yojana) का फायदा देश का हर एक किसान ले सकता है।
  • योजना के माध्‍यम से किसान को रियायती किमत (सस्‍ती दर) पर सौर पंप सिंचाई हेतु उपलब्‍ध कराना है।
  • योजना के शुरू करने के बाद किसान समय पर फसलों की सिंचाई कर पाएगें और कृषि में नवनीकरण पद्धतियों को अपनायेगे।
  • बताया गया है की योजना में मेगावाट अतिरिक्‍त बिजली का उत्‍पादन होगा।
  • किसानों खेतों में सोलर प्‍लांट लगाता है तो उसे 24 घंटे बिजली मिलेगी और वह रात्रि के स्‍थान पर दिन में फसलों कि सिंचाई कर पायेगा।
  • आप भी सोलर पेनल (Solar Pump) लगवाते है तो सरकार आपको 60 प्रतिशत लाभ देती है बाकी 40 प्रतिशत किसान को लगाना पड़ता है। किसान चाहे तो 30 प्रतिशत लोन बैंक से प्राप्‍त कर सकता है। जिसके बाद केवल 10 प्रतिशत खर्चा किसानों को उठाना पड़ता है
  • PM Kusum Scheme उन किसानों के लिए ज्‍यादा लाभकारी होगी जहां पानी की कमी है अर्थात सूखा है और बिजली की समस्‍या रहती है।
  • आपको बता दे जो अतिरिक्‍त बिजली का उत्‍पादन होगा उसे आप चाहे तो सरकारी या विद्युत वितरण कपंनी (DISCOM) को बेचकर 1 महीने में लगभग 6000/- रूपये की राशि प्राप्‍त कर सकते है।
  • इससे किसान भू-स्‍वामि को प्रतिवर्ष प्रति एकड़ भूमि पर 60 हजार रूपये से लेकर 1 लाख रूपये तक की आमदनी अगले 25 वर्षो तक लगातार होगी।
  • सरकार आपको योजना के माध्‍यम से सोलर पंप बंजर भूमि में लगवा रहीं है वो इसलिए की जो भूमि खराब है वह किसानों का उपयोग में हो जाएगी। मतलब किसाना अब तक जिस भूमि पर कुछ भी पैदावार नहीं करता था उसे अब उपयोग में लेगा।
  • किसानों जो बैंकों के माध्‍यम से ऋण (लोन) प्राप्‍त करते है उसका भुगतान अतिरिक्‍त बिजली से होने वाली आमदनी से 5/6 वर्षो में कर सकते है।
  • योजना के माध्‍यम से जो सोलर पैनल आपके खेतों पर लगाया जाएगा वह 25 साल तक चलेगा और इसका रखरखाव भी आसान होगा।

कुसुम योजना में कितना खर्चा आता है (Pradhan Mantri Kusum Yojana )

शायद किसानों को मन में यह बात आती है कि कुसुम योजना के माध्‍यम से सौर ऊर्जा लगवायें तो कितना खर्चा आ जाता है। तो हम आपको बता देते है सोलर पंप लगाने के लिए आपको केवल 10 प्रतिशत की खर्चा करना होगा। बाकी 60 प्रतिशत सरकार देती है जिसमें 30 केन्‍द्र सरकार और 30 ही राज्‍य सरकार वहन करती है। और शेष 30 प्रतिशत राशि आप बैंक से प्राप्‍त कर सकते है।

पीएम कुसुम योजना से जुड़े महत्‍वपूर्ण बिंदु

  • किसान कुसुम स्‍कीम के माध्‍यम से सोलर प्‍लांट लगवाना चाहता है तो उसकी भूमि विद्युत सब-स्‍टेशन से लगभग 5 किलोमीटर के दायरे के अंदर होनी चाहिए।
  • प्रधानमंत्री कुसुम स्‍कीम के जरिए किसान भाई सौर ऊर्जा प्‍लांट स्‍वयं या डेवलपर को जमीन पट्टे पर देकर लगवा सकता है।
  • इस योजना के माध्‍यम से किसान सौर ऊर्जा अपनायें और डीजल के खर्चो से मुक्ति पाये का अभियान है।
  • अपने बिजली से चलने वाले सिंचाई पंप को सौर ऊर्जा से चलायें और दिन के समय सिंचाई का लाभ उठायें

PM Kusum Scheme के लाभार्थी

  • देश का कोई भी किसान
  • किसानों का समूह
  • पंचायत
  • जल उपभोक्‍ता एसासिएशन
  • सहकारी समितियां
  • किसान उत्‍पादक संगठन

प्रधानमंत्री कुसुम योजना जरूरी दस्‍तावेज (PM Kusum Yojana Documents)

  • आवेदन कर्ता का आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • भूमि की जमाबंदी
  • रजिस्‍ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • बैंक खाता
  • मोबाइल नंबर
  • फोटो

इसके अलावा यदि आप पीएम कुसुम के बारें में जानना चाते है या डॉक्‍योमेंट के बारें में देखना चाहते है तो आपको इसकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।

कुसुम योजना की पात्रता (PM Kusum Yojana Elibility)

  • लाभार्थी किसान को भारत का स्‍थाई निवासी होना आवश्‍यक है
  • किसान के पास प्रति मेगावाट के लिए 2 हैक्‍टैयर जमीन होनी चाहिए।
  • स्‍कीम के अनुसार 0.5 मेगावट से लेकर 2 मेगावाट की क्षमता तक सौर ऊर्जा संयंत्र है वो आवेदक भी आवेदन कर सकते है।
  • यदि कोई व्‍यक्ति विकासकर्ता के जरिए कोई प्रोजैक्‍ट शुरू कर रहा है और सोर ऊर्जा लगवाना चाहता है तो उसकी नेटवथे 01 करोड़ रूपये प्रति मेगावाट होनी चाहिए।
  • प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्‍थान महाअभियान का लाभ देश का कोई भी किसान उठा सकता है।

NOTE:- प्‍यारे किसान भाईयों आप प्रधानमंत्री कुसुम स्‍कीम के माध्‍यम से लाभ लेकर सौर ऊर्जा पंप लगवाना चाहते है तो आपको आवेदन करना होगा। आपकी जानकारी के लिए बता से सरकार ने हर राज्‍य की अलग-अलग वेबसाइट कुसुम योजना में रखी है। अर्थात आप जिस राज्‍य के किसान है उसी राज्‍य की कुसुम योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते है। वैसे तो कुछ राज्‍यों के बारें में ऑनलाइन आवेदन जानकारी हमने प्रदान की हुई है आप देख सकते है-

कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन राजस्‍थान (Rajasthan Kusum Yojana Online Registration)

राजस्‍थान राज्‍य के जो भी इच्‍छुक किसान Kusum Solar Pump Yojana का लाभ लेकर सौर पंप लगवाना चाहते है तो उसके लिए पहले आपको आवेदन करना होगा।

Advertisement
  • आवेदन करने हेतु आपको राजस्‍थान कुसुम योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है।
  • जहा आपको मुख्‍य पेज पर ऑनलाइन पंजीकरण का ऑब्‍शन दिखाई देगा उस पर क्लिक करना है।
  • जिसके बाद आपके सामने पंजीकरण फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
Untitled 1 1
  • आपके इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारीयों को सही-सही भरना होगा। और नीचे सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इस प्रकार राजस्‍थान राज्‍य के सभी किसान कुसुम योजना में ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन करवा सकते है।

यूपी कुसुम योजना ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन (UP Kusum Yojana Apply )

  • आप उत्तर प्रदेश राज्‍य के किसान है और पीएम कुसुम योजना में आवेदन करना चाहते है तो आपको यूपी कुसुम योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • जहा आपको Program का विकल्‍प दिखाई देगा उस पर क्लिक करना है जब आप उस पर क्लिक करते है तो आपके सामने कई ऑब्‍शन खुलकर आ जाते है।
  • आपको केवल Solar Energy Program के ऑब्‍शन पर क्लिक करना है
Untitled 2 1
  • इसके बाद एक ओर पेज खुलकर आता है जहा आपको कुसुम योजना (Kusum Yojana) पर क्लिक करना है।
Untitled 3 1
  • इसके बाद एक ओर पेज खुलकर आता है जहा आपको पंजीकरण के ऑब्‍शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सम्‍मुख यूपी कुसुम स्‍कीम का Registration Form खुलकर आ जाता है।
  • इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी सही से भरनी है और नीचे रजिस्‍टर के बटन पर क्ल्कि कर देना है।
  • इस प्रकार उत्तर प्रदेश राज्‍य का किसान कुसुम योजना में आवेदन कर सकता है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना राज्‍य वार सूची

राज्‍य का नाम कुसुम योजना लिंक राज्‍य का नाम कुसुम योजना लिंक
आंध्र प्रदेश यहा क्लिक करें अरूणाचल प्रदेश यहा क्लिक करें
बिहार यहा क्लिक करें असम यहा क्लिक करें
गोवा यहा क्लिक करें छत्तीसगढ़ यहा क्लिक करें
हरियाणा यहा क्लिक करें गुजरात यहा क्लिक करें
झारखंड यहा क्लिक करें हिमाचल प्रदेश यहा क्लिक करें
महाराष्‍ट यहा क्लिक करें मध्‍यप्रदेश यहा क्लिक करें
केरला यहा क्लिक करें कर्नाटक यहा किल्‍क करें
मणिपुर यहा किल्‍क करें मेघालय यहा क्लिक करें
पंजाब यहा क्लिक करें राजस्‍थान यहा किल्‍क करें
नागालैंड यहा क्लिक करें ओडिशा यहा क्ल्कि करें
मिजोरम यहा क्ल्कि करें तमिलनाडु यहा क्ल्कि करें
सिक्किम यहा क्लिक करें तेलंगाना यहा क्ल्कि करें
उत्तर प्रदेश यहाक्लिक करें उत्तराखंड यहा क्ल्कि करें
त्रिपुरा यहा क्ल्कि करें पश्चिम बंगाल यहा क्ल्कि करें
जम्‍मू व कश्‍मीर यहा क्ल्कि करें दिल्‍ली यहा क्ल्कि करें

प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्‍थान महाअभियान (Kusum Yojana Official Website)

PM Kusum Yojana Helpline Number (कुसुम योजना टोल फ्री नंबर)

किसी भी किसान भाई को प्रधानमंत्री कुसुम स्‍कीम Kusum Scheme से जुड़ी किसी प्रकार की समस्‍या आती है तो वह नीचे दिए गये नम्‍बरों पर कॉल करके अपनी समस्‍या का निवारण कर सकता है।

  • Contact Number – 011-243600707, 011-24360404
  • Toll-Free Number- 18001803333

कुसुम योजना से जुड़े प्रश्‍न व उत्तर

प्रश्‍न:- प्रधानमंत्री कुसुम योजना क्‍या है

उत्तर:- किसानों के कल्‍याण हेतु शुरू की गई महत्‍वपूर्ण योजना है जिसके माध्‍यम से किसानों को सिंचाई हेतु सौर ऊर्जा पंप लगाने के लिए 60 प्रतिशत सब्सिडी सरकार देती है। ताकी किसानों को डीजल के खर्चो से मुक्‍त किया जाया और उनकी आय में वृद्धि हो सके।

प्रश्‍न:- कुसुम योजना में कितना खर्चा आता है।

उत्तर:- योजना के माध्‍यम ये किसान सोलर पैनल लगवाता है तो उसे केवल 10 प्रतिशत लागत लगाती पड़ती है। बाकी राशि 60 प्रतिशत सरकार और 30 प्रतिशत बैंक से प्राप्‍त कर सकते है।

प्रश्‍न:- कुसुम योजना में कैसे अप्‍लाई करें ।

उत्तर:- जो भी इच्‍छुक किसान योजना में आवेदन करके सौर ऊर्जा पंप लगवाना चाहते है तो उसको अपने राज्‍य की कुसुम योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। वेबसाइट के पेज पर आपको ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन का विकल्‍प दिखाई देगा उस पर क्लिक करना है। और हमने ऊपर इसी लेख में आवेदन प्रक्रिया बताई हुई है।

आज के इस आर्टिकल में आपको प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्‍थान महाअभियान (PM Kusum Yojana) के बारें में बताया है। जो केवल ऑफिशियल नोटिफिकेशन के आधार पर बताया है। इसे आप सभी के साथ साझा करें और आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न उठ रहा है तो कमेंट करके अवश्‍य पूछ सकते है धन्‍यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *