Pongal Festival in Hindi 2022 | पोंगल कब है और यह क्‍यों मनाया जाता है जानिऐ रोचक बाते

Advertisement

Pongal Festival in Hindi 2022 | पोंगल कब है और यह क्‍यों मनाया जाता है जानिऐ रोचक बाते | Happy Pongal 2022 | पोंगल त्‍यौहार 2022 | Pongal Festival Read in Hindi | पोंगल क्‍याें मनाया जाता है | Pongal 2022 in Hindi

जैसा की आप सभी जानते है पोंगल दक्षिणी भारत का मुख्‍य त्‍यौहार है जिसे बड़े ही उत्‍साह पूर्वक मनाया जाता है। यह पर्व लगातार चार दिनो तक मनाया जाता है जिस प्रकार पंजाब में लोहड़ी तथा राजस्‍थन में मकर सक्रांति का त्‍यौहार मनाया जाता है उसी प्रकार दक्षिण भारत के लोग भी पोंगल का पर्व मनाते है। आप इस पर्व के बारें में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अतं तक बने रहे।

Advertisement

पोंगल त्‍यौहार 2022 (Pongal Festival in Hindi)

दक्षिणी भारत के सभी प्रसिद्ध त्‍यौहारो में से एक है पोंगल जो चार दिनों तक बड़े ही हर्ष व उल्‍लास के साथ मनाया जाता है। पौराणिक मानयताओं के अनुसार पोंगल पर्व वाले दिन दक्षिण भारत के लोग नववर्ष मनाते है। यह पर्व मकर सक्रांति व लोहड़ी के दिन से शुरू होता है और चार दिन तक चलता है। अर्थात 13/14 जनवरी से शुरू होता है और 17 जनवरी तक इस पर्व को मनाते है।

क्‍यों मनाते है पोंगल जानिए (Pongal Tamil Festival in Hindi)

कहा जाता है पौष के समय में दक्षिणी भारत के किसानो की धान की फसल पूरी तरह पककर तैयार हो जाती है जिसकी कटाई करके समेट लेते है और आगे की फसल अच्‍छी होने के लिए प्रार्थना करते है और उसी उपल्‍क्ष में पोंगल का पर्व मनाते है। अर्थात आने वाली फसल भी इसी प्रकार अच्‍छी पैदावार हो।

पोंगल का त्‍यौहार कब मनाते है जानिए

पोंगल का त्‍यौहार चार दिनों तक अलग-अलग नामो से मनाया जाता है जो की अलग-अलग देवताओं काे स‍मर्पित है। जो कि निम्‍‍नलिखित है-

Pongal Festival in Hindi 2022
Pongal Festival in Hindi 2022
पोंगल पर्व के अन्‍य नाम वार दिनांक
भोगी पोंगल शुक्रवार 14 जनवरी 2022
थाई पोंगल शनिवार 15 जनवरी 2022
मट्टू पोंगल रविवार 16 जनवरी 2022
कान्‍नुम पोंगल सोमवार 17 जनवरी 2022

पोंगल का अर्थ क्‍या है जानिए (Happy Pongal 2022)

इस पर्व वाले दिन लोग बुरी नीतियों काे त्‍यागर अच्‍छी नीतिया अपनाते है। जिसे ‘पोही’ कहा जाता है जिका अर्थ है जाने वाली तथा पोंगल का तमिल भाषा में उफान व विप्‍लव होता है। इसके अगले दिन प्रतिपदा होती है जिस कारण इसे दक्षिण भारत की दिवाली भी कहा जाता है।

इस त्‍यौहार पर लोग अपने घरो को सजाते है तथा विभिन्‍न प्रकार की रंगोली बनाते है।

क्‍यो मनाते है पोंगल का त्‍यौहार जानिए (Pongal 2022 in Hindi)

इस समय दक्षिणी भारत के लोगो की धान की खेती पूरी तरह पक चुकी होती है और उसकी कटाई करके अपने घरों में रख लेते है तथा आगे बोई जाने वाली फसल अच्‍छी हो इसी खुशी में पोंगल का पर्व मनाया जाता है। इस पर्व वाले दिन भगवान सूर्य, इन्‍द्र, अग्नि, जल, आदि देवताओं की पूजा होती है। ताकी वो उन पर अपनी कृपा बनाए रखे।

Advertisement
Advertisement

इस दिन औरते अपने परिवार के साथ मिलकर गाय के दूध में खीर बनाते है। यह खीर चावल, दूध, चाीन, काजू, बादाम, पिस्‍ता आदि की बनाई जाती है। जब खीर बर्तन से ऊफनकर बाहर आती है तो सभी खुशी से कहते है पोंगल आ गया देखों पोंगल आ गया। एक-दूसरे को पोंगल की शुभकमनाए प्रकट करते हुए इस पर्व को मनाते है।

पोंगल पौराणिक कथा जानिए (Pongal Festival in Hindi)

पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार कहा जाता है भगवान शिवजी ने बैल वसव को कहा की तुम धरती पर जाकर मानव जाती से कहो वो सभी प्रतिदिन तेल लगाकर स्‍नान करे। और महीने में एक बार ही भोजन ग्रहण करे। शिवजी की आज्ञा के अनुसार बैल वसव धरती पर आ गया परन्‍तु उसे शिवजी द्वारा कही गई बात अजीब लगी।

और उसने लाेगो का उलटा सदेंश दिया कहा जिससे क्रोधित होकर भगवान शिवजी ने बैल वसव को श्राप दे दिया और कहा की आज से तुम पृ‍थ्‍वी पर मानवी जाती के हर प्रकार से काम आएगा। अर्थात खेते जोतने, पानी खीचने आदि कामों में।

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको पोंगल त्‍यौहार के बारें में बताया है। यदि लेख में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने‍ मिलने वालो के पास शेयर करे। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद

यह भी पढ़े-

You may also like our Facebook Page & join our Telegram Channel for upcoming more updates realted to Sarkari Jobs, Tech & Tips, Money Making Tips & Biographies.

प्रश्‍न:- पोंगल त्‍यौहार कब है

उत्तर:- 14 जनवरी 2022

Advertisement

प्रश्‍न:- पोंगल त्‍यौहार कहा का प्रसिद्ध त्‍यौहार है

उत्तर:- दक्षिणी भारत का

प्रश्‍न:- आखिर पोंगल का त्‍यौहार क्‍यों मनाया जाता है

उत्तर:- धान की खेती की अच्‍छी पैदावार व आगे बोई जाने वाली फसल अच्‍छी हो इसी खुशी के उपल्‍क्ष में पोंगल का त्‍यौहार मनाया जाता है।

प्रश्‍न:- पोंगल का त्‍यौहार कितनों दिनो तक मनाया जाता है।

उत्तर:- लगातार चार दिनो तक

प्रश्‍न:- पोंगल त्‍यौहार के अन्‍य नाम क्‍या है

उत्तर:- भोगी पोंगल, थाई पोंगल, मट्टू पोंगल, कान्‍नुम पोंगल।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *