Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana (Himachal Pradesh): राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना क्‍या है जानिए

Himachal Pradesh Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Scheme:- जैसे ही हिमाचल प्रदेश में सुख की सरकार आयी है सबसे पहले बेरोजगार युवाओं के लिए स्‍वरोजगार के लिए कदम बढ़ाया है। हिमाचल प्रदेश राज्‍य के मुख्‍यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्‍खू (Sukhvinder Singh Sukhu) जी के नेतृत्‍व में प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार की और बढ़ावा देते हुए राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना का आरंभ किया है। जिसको तीन चरणों में लागू किया गया है इसके पहले चरण में ई-टैक्‍सी, दूसरे चरण में सोलर परियोजना और तीसरे चरण में कृषि संबंधी कामों को शामिल किया गया है।

राज्‍य में राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना के तहत परिवहन विभाग के तहत प्रदेश में ई-टैक्‍सी योजना का आरंभ किया हुआ है। जिसमें हिमाचल सरकार बेरोजगार को रोजगार देने के साथ प्रदेश को प्रदूषण मुक्‍त और अपने राज्‍य को हरित बनाने के लिए जुड़ी हुई है। इस प्रकार की योजना को लाने वाला भारत देश का पहला राज्‍य केवल हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) बना है। आप राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना के बारें में पूरा डिटेल से पढ़ना चाहते है तो नीचे लेख के अंत तक बने रहिएगा।

 राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना

Himachal Pradesh Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Yojana in Hindi

योजना का नाम राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना (Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Yojana in Himachal Pradesh)
किसने शुरू करी मुख्‍यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्‍खू
कब शुरू करी साल 2023
विभाग का नाम परिवहन विभाग हिमाचल प्रदेश
उद्देश्‍य बेरोजगार युवाओं को स्‍वरोजगार के लिए सहायता देकर प्रोत्‍साहित करना है
लाभार्थी बेरोजगार युवा
सहायता राशि 50 प्रतिशत सब्सिडी
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन/ऑफलाइन
ऑफिशियल वेबसाइट —————–
हेल्‍पलाइन नंबर ——————
राज्‍य का नाम हिमाचल प्रदेश राज्‍य

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना क्‍या है Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana Kya Hai

राज्‍य सरकार ने वादा किया था की प्रदेश में कोई भा नागरिक बेरोजगार नहीं होगा, उसी अनुसार हिमाचल सरकार ने प्रदेश के युवाओं को स्‍वरोजगार की और बढ़ावा देते हुए राजवी गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप स्‍कीम का आरंभ किया है। इसमें बेरोजगार व्‍यक्तियों को राज्‍य सरकार ई-बसे, इलेक्ट्रिकल टैक्सिया, इलेक्ट्रिकल ट्रक आदि खरीदने के लिए प्रोत्‍साहित करती है। योजना के तीन चरण में लाभार्थीयों को लाभ मिलेगा, जिसके पहले चरण में राज्‍य सरकार 500 ई-टैक्सिया आवंटित करक उन्‍हे सरकारी विभागों के कार्यो में लगाएगी।

इससे शायद ही कोई बेरोजगार युवा होगा, सरकारी विभाग में ई-टैक्सि की सेवाओं का लाभ मिलेगा जिससे अधिक से अधिक लोगो को रोजगार भी मिलेगा। इसके अलावा जो नागरिक योजना के माध्‍यम से इलेक्ट्रिक वाहन खरीदेगा, उस पर राज्‍य सरकार पूरा 50 प्रतिशत का अनुदान राशि सब्सिडी के रूप में देगी। शेष 50 प्रतिशत की राशि स्‍वयं लाभार्थी को उठानी पड़ेगी। इसके साथ ही हिमाचल सरकार ने प्रदेश के 12जिलों के कुछ चुनिंदा पैट्रोल पंपो पर ई-वाहन चार्जिक का स्‍टेशन भी लगवाया जाएगा। जिससे किसी भी इलेक्ट्रिक वाहन को चार्जिंग करने में किसी प्रकार की समस्‍या का सामना नहीं करना पड़े।

राज्‍य सरकार बेरोजगार युवाओं को इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिए बैंक से लोन की सुविधा भी उपलब्‍ध करवाएगी। यह लोन बिल्‍कुल कम ब्‍याज की दर पर होगा जो आपको कुछ सालों के बाद समय के साथ वापस चुकता करना पड़ेगा।

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना कब शुरू हुई

हिमाचल प्रदेश राज्‍य के मुख्‍यमंत्री श्री सुखविंद सिंह जी ने साल 2023 के 17 मई को आयोजित कैबिनेट बैठक के दाैरान Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Scheme को मंजूरी प्रदान करी है। जिसका उद्देश्‍य साल 2026 से पहले-पहले हिमाचल प्रदेश राज्‍य को पूरी तरह से हरित राज्‍य बनाकर उसे प्रदूषण से मुक्‍त करना है। उसी के लिए हिमाचल सरकार ने साल 2023 में Himachal Pradesh Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Scheme को आरंभ किया है।

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना उद्देश्‍य Rajiv Gandhi Self-Employment Start-up Yojana Objective

यह योजना व्‍यवसायिक उद्देश्‍यों के लिए नहीं है जहा व्‍यक्ति या ई-टैक्‍सी ऑपरेटर सब्सिडी प्राप्‍त करने और इलेक्ट्रिक वाहनों के संचालन के लिए ड्राइवरों को तैनात करने के लिए आवेदन करते है। यह योजना बेरोजगार युवाओं के लिए स्‍वरोजगार और पर्यावरण अनुकूल ई-टैक्‍सी के लिए है। स्‍कीम को शुरू करने के पीछे का कारण एक और भी है बेरोजगार नागरिकों की उद्यमशीलता को बढ़ावा देकन उनकी आजीविका को बढ़ाना है। साथ ही प्रदेश में ज्‍यादा से ज्‍यादा इलेक्ट्रिक वाहन का प्रयोग करके राज्‍य को प्रदूषण मुक्‍त करना है और साल 2026 से पहले हिमाचल राज्‍य को हरित ऊर्जा में बदलना है।

Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana में मिलने वाला अनुदान

हिमाचल राज्‍य के मुख्‍यमंत्री जी ने कहा है की यदि कोई राज्‍य का नागरिक डेंटल क्‍लीनिक की स्‍थापना करता है या करना चाहता है या फिर वह मछली पालन से जुड़ी कोई भी परियोजना व नीति का लाभ उठाना चाहता है। उस स्थिति में राज्‍य सरकार उसको लाभ के तौर पर अनुदान करेगी, इससे जुड़े कोई भी उपकरण खरीदने के लिए राज्‍य सरकार आपको कम से कम 60 लाख रूपये तक का अनुदान देय करेगी। जिसकी जानकारी नीचे टेबल में दी हुई है-

श्रेणी अनुदान सब्सिडी
जनरल कैटैगरी 25%
अनुसूचित जानि/अनुसूचित जनजाति 30%
महिला/दिव्‍यांग, विकलांग 35%
इलेक्ट्रिक वाहन हेतु 50%
सौर ऊर्जा परियोजनाओं के लिए 40%

हिमाचल राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्ट-अप योजना के मुख्‍य बिंदु Mukhyamantri Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana

  • प्रदेश के बेरोजगार युवा व युवतियों को रोजगार दिलाने के उद्देश्‍य से हिमाचल राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्ट-अप योजना का आरंभ किया है।
  • इसका मुख्‍य मकसद राज्‍य में बेरोजगार समाप्‍त के साथ प्रदूषण मुक्‍त राज्‍य बने और साल 2026 से पहले हरित ऊर्जा का राज्‍य बनकर तैयार हो, इसलिए ज्‍यादा जोर इलेक्ट्रिक वाहनों पर दिया जा रहा है।
  • हिमाचल सरकार आपको योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहन की खरीद के लिए अनुदान या सब्सिडी देती है।
  • साथ ही जो युवा डेंटल क्‍लीनिक डालना चाहता है उसे 60 लाख तक की मशीनों पर 25 प्रतिशत से लेकर 35 प्रतिशत का सब्सिडी देती है।
  • 1 मेगावाट तक वाणिज्यिक सौर ऊर्जा परियोजनाओं के लिए भी सरकार अनुदान प्रदान करेगी।
  • इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने के लिए राज्‍य सरकार आपको 50%का सब्सिडी और सौर ऊर्जा परियोजनाओं हेतु केवल 40 प्रतिशत का सब्सिडी देती है।
  • वही जो राज्‍य की महिला व दिव्‍यांग कैटगरी का कोई भी व्‍यक्ति या महिला स्‍वरोजगार के लिए इस स्‍कीम का लाभ उठाता है तो उसे सरकार 35 प्रतिशत का अनुदान सब्सिडी पर देती है।
  • इस स्‍कीम को सफल बनाने के लिए राज्‍य सरकार ने 100 करोड़ रूपये का बजट तय किया है।
  • योजना के माध्‍यम से अब राज्‍य में बेरोजगार युवा व युवतियों को रोजगार मिलेगा, इससे उनकी दैनिक स्थिति में बेहद सुधार देखने को मिलेगा।
  • पूरा राज्‍य प्रदूषण मुक्‍त होगा और आने वाले सालो में हरित ऊर्जा में अववल होगा।

हिमाचल राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्ट-अप योजना की पात्रता Mukhyamantri Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana Eligibility

  • योजना का लाभ उठाने वाला केवल हिमाचल राज्‍य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • जिसकी उम्र 18 साल से भी ज्‍यादा हो, और वह बेरोजगार होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाले प्रार्थी का कम से कम 10वीं उत्तीर्ण होना जरूरी है।
  • खुद का बैंक अकाउंट होना जरूरी है

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना जरूरी दस्‍तावेज Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana Important Document

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण
  • आय प्रमाण
  • मशीनरी (जो भी उपकरण खरीदता है) उसका बिल
  • दिव्‍यांग/विकलांग सर्टिफिकेट
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता
  • फोटो पासपोर्ट साइज का

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना की ऑफिशियल वेबसाइट Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana Official Website

अभी तो हिमाचल प्रदेश राज्‍य सरकार ने बेरोजगार युवा व युवतियों को रोजगार के प्रति बढ़ावा देने के लिए Rajiv Gandhi Swarojgar Start-up Yojana का आरंभ किया है। पर अभी तक इसकी कोई भी ऑफिशियल वेबसाइट जारी नहीं करी है जब करेगी तो आपको अपडेट कर दिया जाएगा।

राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें Rajiv Gandhi Swarojgar Startup Yojana Online Apply

जब प्रदेश के बेरोजगार नागरिकों ने स्‍कीम के बारें में सुना है तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा और वो सभी इस स्‍कीम में आवेदन करना चाहते है। उसके लिए आपको अभी थोड़ा और समय इंतजार करना होगा, क्‍योंकि राज्‍य सरकार ने अभी योजना का ऐलान किया है। इसकी कोई भी ऑफिशियल वेबसाइट जारी नहीं करी है पर दावा करते है की हिमाचल प्रदेश राज्‍य सरकार राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना की ऑफिशियल वेबसाइट लॉन्‍च करती है तो आपको इसी आर्टिकल में अपडेट कर दिया जाएगा। जिसके बाद आप सभी इच्‍छुक नागरिक राजीव गांधी स्‍वरोजगार स्‍टार्टअप योजना में अपना पंजीकरण कर सकते है

महत्‍वपूर्ण लिंक

होम पेज यहा क्ल्कि करें
ऑफिशियल वेबसाइट यहा क्ल्कि करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top