World AIDS Day 2021 | विश्‍व एड्स दिवस के बारे में विस्‍तार से जाने

Advertisement

World AIDS Day in Hindi

World AIDS Day 2021 दोस्‍तो आपने एड्स जैसे महाघातक बीमारी के बारे में जरूर सुना होगा। जिसका आज तक कोई उपाय या दवाई नही बनी है क्‍योकि यह एक ऐसी बीमारी है जिससे मानव तंत्रिका तंत्र की कोशिकाओ को नुकसान पहुचाती है। और यह बीमारी एक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति में फैल जाती है। इस बीमारी के प्रति लोगो को जागरूक करने के लिए पूरे विश्‍व में प्रतिवर्ष 01 दिसबंर को विश्‍व एड्स दिवस मनाया जाता है। और यदि आप एड्स दिवस के बारे में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अंत तक बने रहे।

Advertisement

विश्‍व एड्स दिवस 2021 (World AIDS Day in Hindi)

World Aids day
aids day 2021 theme in hindi
AIDS फुल फॉर्म क्‍या है Acquired Immuno-Deficiency Syndrome
कब मनाया जाता है 01 दिसबंर
HIV की फुल फाॅर्म क्‍या है Human Immuno-Deficiency Virus
शुरूआत कब है 01 दिसबंर 1988

एड्स एक प्रकार का सिंड्रोम है जो एचआईवी से जुडा होता है। यदि मानव शरीर में यह एचआईवी हो जाता है तो उसकी प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर हो जाती है। और उसकी शरीर की इम्‍यून सिस्‍टम अर्थात प्रतिरक्षा प्रणाली को समाप्‍त कर देता है। जिससे मनुष्‍य का शरीर इस बीमारी से लड़ने की क्षमता खो देता है। और वह दिन प्रतिदिन कमजोर होता जाता है और बाद में यह जानलेवा भी हो सकती है। तो इसी कारण आपको इसके प्रति एकदम जागरूक होना चाहिए।

एड्स की उत्‍पत्ति कहा से हुई और किसी जीव से हुई

19 वीं सदी में वैज्ञानिको की एक रिसर्च के दौरान जानवरों के अंदर उनको एचआईवी नाम घातक वायरस मिला। और यह जानवर एक चिंपाजी बंदर था जिसमें सबसे पहले हुआ था। जिसके बाद यह बीमारी सीधे मानव जाती में आ गई। सर्वप्रथम सन 1959 में कांगो में एक बीमार व्‍यक्ति की जब जांच की गई तो वह व्‍यक्ति एचआईवी से संक्रमित मिला। वैज्ञानिको के अनुसार इस बीमारी की उत्‍पत्ति किंशासा शहर के डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो की राजधानी से हुई थी।

जिसके बाद सन 1960 में अफ्रीका के हैती और फिर कैरिबियन देश में मिली और वहा से कई आदमी इस बीमारी से संक्रमित मिले। जिसके बाद सन 1980 में अमेरिका में देखने को मिला। और 1981 में इस बीमारी की पहचान कर ली डॉ. माइकल गोटलिएब ने लॉस एंजेलेस में पाचं व्‍यक्तियो में जांच के दौरा एक जैसा बीमारी जो निमोनिया थी वह मिली। और देखा की उनकी तंत्रिका तंत्र बहुत कमजोर हो गई है और वह रोग से लड़ने की क्षमता खो दि है।

जिसके बाद डॉ. ने अनुमान लगया की यह बीमारी केवल समलैंगिको में हो सकती है। और इस बीमारी को GRID (गे-रिलेटेड इम्‍यूनो डेफिशियेंसी) नाम दिया। जो बाद में एड्स के नाम से जान गया। इसके बाद सन 1983 में फ्रांस के लुक मोन्‍टैग्‍नीर और फ्रांसोइस बार्रे-सिनोशी ने एल.ए.वी. नाम वायरस की खोज की और सन 1984 में अमेरिका के रोबर्ट सी-गैलो ने एच.टी.एल.वी.-3 नामक वायरस की खोज की। और सन 1985 में वैज्ञानिको व डॉ. की रिसर्च के दौरान यह अनुमान लगाया की ये दोनो वायरस एक ही है।

जिसके बाद सन 1985 में डॉ. मोन्‍टैग्‍नीर औ सिनोशी को वायरस का पता लगाने के लिए नोबेल पुरूस्‍कार से सम्‍मानित किया गया। और 1986 में प्रथम बार इस वायरस का नाम HIV अर्थात हाूमन इम्‍यूनो डेफिशियेंसी वायरस नाम दिया गया जो आज लोग सिर्फ एचआईवी के नाम से ही जानते है और पहली बार इस घातक बीमारी के प्रति लोगो को बताया की यह एक प्रकार का वायरस है जिसकी कोई दवाई नही है।

विश्‍व एड्स दिवस प्रथम बार कब मनाया गया

विश्‍व एड्स दिवस प्रथम की स्‍थापना विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन WHO के द्वारा सन 1988 में की गई थी। इसकी स्‍थापना सभी राष्‍ट्रो व देशो व अंतराष्‍टीय संगठनों के बीच आदान-प्रदान की सुविधा के लिए की गई थी। ताकी लोग इस बीमारी के बारे में जान सके। और 01 दिसबंर 1988 को प्रथम बार विश्‍व एड्स दिवस मनाया गया था।

Advertisement
Advertisement

उस समय विश्‍व में लगभगल 90 हजार से लेकर डेढ़ लाख के आसपास एड्स से ग्रसित व्‍यक्ति थे। और सन 1981 में एचआईवी वायरस से होने वाली मृत्‍यु सामने आई जो एड्स से होने वाली प्रथम मौत थी। यह देखते हुऐ विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के साथ मिलकर कई राष्‍ट्रो के समर्थन में लोगो को इस वायरस के प्रति जागरूक करने के लिए प्रतिवर्ष 01 दिसबंर को विश्‍व एड्स दिवस मनाने की घोषण की।

एड्स क्‍या है (AIDS Kya Hai)

एड्स एक प्रकार का संक्रमक रोग है जिसका पूरा नाम ‘एक्‍वायर्ड इम्‍यूनो डेफिसिएंशी सिंड्राेम’ है। जो एच.आई.वी. नामक वायरस से होती है यदि यह रोग किसी मनुष्‍य में हो जाता है तो उसकी प्रतिरोधी क्षमता बहुत कमजोर हो जाती है। और इस बीमारी का कोई ईलाज नही है बस आप खुद इस वही रोकने के उपाय कर सकते है।

World AIDS Daya 2021
World AIDS Day 2021

एचआईवी के लक्षण इस प्रकार है

यदि किसी व्‍यक्ति को एड्स हो जात है तो उसे नीचे दिए गए लक्षण दिखाई देगे और आप समझ जाना की इस व्‍यक्ति हो एड्स जैसे घातक बीमारी हो गई है।

  • बुखान होना
  • पसीना आना व ठंड लगना
  • भूख कम लगना व थकान होना
  • उल्‍टी आना, गले में खराश होना
  • खांसी होना, सांस लेने में पेरशानी होना
  • चक्‍क आना
  • लसीकाओ में सूजन आना आदि

एड्स संबंधित जांचे

  • वेस्‍टर्न टेस्‍ट
  • सीडी-4 काउंट
  • एलीसा टेस्‍ट
  • एचआईवी पी-24 ऐंटीजेन (पी.सी.आर)

एड्स से बचाव जाने

  • यदि किसी व्‍यक्ति को एड्स है तो उससे दूर रहना चाहिए।
  • एड्स से ग्रसित व्‍यक्ति के साथ खाना नही खाना चाहिए।
  • एक से ज्‍यादा यौन संबध ना रखे
  • एड्स से संक्रमित व्‍यक्ति के साथ किसी प्रकार का संबंध ना रखे।
  • समय पर अपनी जांच करवाये तथा समय-समय पर डॉ. से सलाह लेते रहे
  • ध्‍यान रहे यदि कोई स्‍त्री एड्स से ग्रसित है तो उसे गर्भधारण्‍ नही करना चाहिए। क्‍योकि य‍ह बीमारी उसके बच्‍चे में भी हो सकता है।

World aids day 2021 theme (विश्‍व एड्स दिवस 2021 की थीम)

विश्‍व एड्स दिवस 2021 की थीम ‘असमानताओ को समाप्‍त करे तथा एड्स जैसे घातक बीमारी को खत्‍म करे यह रखी गई है। साथ ही डब्‍ल्‍यू.एच.ओ. ने कहा की पूरे विश्‍व कोविड-19 जैसी महामारी से लोगो में असमानता व व्‍यवधान बढ़ रहा है। जिसके कारण कई लोग एच.आई.वी. से सं‍क्रमित हो रहे है। तो आप सभी जितना ज्‍यादा हो सके खुद की शरीर की देखभाल स्‍वयं करे। क्‍योकि यह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार हो जाऐ वह जीवन काल तक नही खत्‍म होती और बाद में जानलेवा भी हो सकती है।

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको एड्स World AIDS Day in Hindi जैसी घातक बीमारी के बारे में बताया है। और आपको लेख में बताई हुई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने दोस्‍तो के पास शेयर करे ताकी वाे भी इस बीमारी के प्रति जागरूक हो सके। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद दोस्‍तो

यह भी पढ़े-

प्रश्‍न:- विश्‍व एड्स दिवस कब मनाया जाता है।

उत्तर:- प्रतिवर्ष 01 दिसबंर को

Advertisement

प्रश्‍न:- एड्स की फुल फॉर्म क्‍या है।

उत्तर:- एक्‍वायर्ड इम्‍यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम

प्रश्‍न:- एच.आई.वी की फुल फाॅर्म क्‍या है।

उत्तर:- हाूमन इम्‍युनोडेफिशिएंसी वायरस

प्रश्‍न:- एड्स क्‍या है।

उ्त्तर:- एड्स एक प्रकार का संक्रमित राेग है जिसका आज तक कोई इलाज नही मिला अर्थात जिसकी कोई दवाई नही बनी।

प्रश्‍न:- प्रतिवर्ष एड्स दिवस क्‍यो मनाया जाता है।

उत्तर:- एड्स जैसी महामारी के प्रति लोगो को जागरूक करने के लिए

प्रश्‍न:- प्रथम बार एड्स दिवस कब मनाया गया था।

उत्तर:- 01 दिसबंर 1988 में

You may also like our Facebook Page & join our Telegram Channel for upcoming more updates realted to Sarkari Jobs, Tech & Tips, Money Making Tips & Biographies.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *