Advertisement

World Rabies Day in Hindi 2021 | विश्‍व रेबीज दिवस के बारे में यहा से पढ़े

Advertisement

विश्‍व रेबीज दिवस (World Rabies Day) 2021:- यह दिवस प्रतिवर्ष 28 सितम्‍बर को पूरे विश्‍व में मनाया जाता है। इस बार यह 28 सितम्‍बर 2021 मगंलवार के दिन है। इसका उदेश्‍य रेबीज जैसी घात बीमारी से सभी काे जागरूक करना है। आज के समय में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की तालिका के अनुसार रेबीज से होने वाली मौत लगभगल 12 वें नम्‍बर पर है। ऐसे में यदि आप विश्‍व रेबीज दिवस World Rabies Day in Hindi के बारे में विस्‍तार से जानना चाहते है तो पोस्‍ट के अन्‍त तक बने रहे।

विश्‍व रेबीज दिवस (World Rabies Day 2021)

World Rabies Day in Hindi
World Rabies Day in Hindi

रेबीज/जलांतक व अलर्क जैसे बीमारीया दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारियो में से एक है। जो किसी को हो जाऐ तो उस इंसान का बचना बड़ा ही नामुकिन है। आज रेबीज से बहुत ज्‍यादा मौत हो रही है जो अन्‍य बीमारियो के क्रम पर लगभग बारहवे क्रम पर है।

Advertisement

रेबीज एक लाइसो वाइरस है अर्थात एक ऐसा विषाणु है जो ज्‍यादातर कुत्तो के काटने पर होता है। वैसे तो यह बीमारी बिल्‍ली, बंदर, सियार, घोड़, भेडि़या, चूहा, चमगादड़, नेवला आदि के काटने पर भी होता है किन्‍तु कुत्ते के काटने पर ज्‍यादा असर होता है। क्‍योकि इन सभी प्राणियों में से सबसे ज्‍यादा गर्म खून कुत्ता व बंदर का होता है। जिस कारण मनुष्‍य को काटने पर ऐ खून मैच नही होता और उसकी मृत्‍यु की बहुत अधिक संभावना होती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे हमारे देश मेें लगभग प्रतिवर्ष 15 से 20 लाख के समथ‍िक रेबीज से संक्रमित पेशेंट आते है। पहले तो इस बीमारी का कोई ईलाज नहीं था किन्‍तु अब तो टीके लगने के कारण ज्‍यादातर रेबीज से संक्रमिट पेशेंट ठीक हो जाते है।

रेबीज बीमारी से बचने का उपाय (World Rabies Day in Hindi)

  • शायद आपमे से बहुत कम लोग यह जानते होगे यदि किसी को कुत्ता या बंदर काट देता है तो उसे रेबीज से बचने के लिए 24 घंटो के अंदर टीका लगवाना बहुत ही जरूरी होता है।
  • आज के समय में भारत सरकार रेबीज जैसे घातक बीमार‍ि का मुफत में टीका लगाती है। यह टीका आप पास के किसी भी सरकारी अस्‍पताल में जाकर लगवा सकते है।
  • यदि आप अपने घर में किसी जानवर को पालतू बनाते है तो उसे एक बार संबधित चिकित्‍सा अस्‍पताल में जाकर उसका चैकअप करना बहुत ही जरूरी है।
  • इसके अलावा आप पालतू जानवर के एक टीका लगवा सकते है जिस पर आपको यदि पालतू जानवर काट भी लेता है तो आपको रेबीज जैसी बीमारी नही होगी।

विश्‍व रेबीज दिवस (Day of World Rabies)

दोस्‍तो आपकी जानकारी के तौर पर बता दे की रेबीज विषाणु या एक ऐसा वाइरस है जिसे रेबीज जैसी घातक बीमारी होती है रेबीज लायसा विषाणु जो कुत्ते या बंदर के काटने पर हमारे शरीर में प्रवेश करते है। यह वाइरस शरीर में जाने के बाद धीरे-धीरे अनेक प्रकार की बीमारी उत्‍पन्‍न कर देता है।

Advertisement

आज के समय में इस विषाणु को खत्‍म करने का टीका/इंजेक्‍शन तो उपलब्‍ध है किन्‍तु इससे पूरी तरह से ठीक नही होता। इसलिए रेबीज से जितना ज्‍यादा हो सके अपना बचाव करे। क्‍योकिं भारत में लगभग 90 प्रतिशत रेबीज का संक्रमण जानवरो के काटने से होता है। खासतौर पर कुत्ता व बंदर से ।

रेबीज बिमारी के लक्षण (Day of Rabies 2021)

  • मनुष्‍य को कुत्ते के काटने वाली जगह पर पीड़ा व झनझनाहट होना ।
  • व्‍यक्ति शुरूआत ने पानी पीने से डरता है यह रेबीज का खास लक्षण है।
  • कुछ भी खाने-पीने पर गले में दर्द, मुँह से चिपचिपी लार का आना भी प्रमुख लक्षण है। ऐसे बहुत से लक्षण है जो एक रेबीज संक्रमित व्‍यक्ति को होते है।

विश्‍व रेबीज दिवस के मुख्‍य तथ्‍य (World Rabies Day in Hindi)

यह दिवस पूरे विश्‍व में लोगो को रेबीज जैसी घातक बीमारी के लिए जागरूक करना। बात करे हमारे देश भारत की तो यहा पर इस दिन लगभग सभी राज्‍यो में विश्‍व रेबीज दिवस World Rabies Day मनाया जाता है। इस दिन स्‍कूलो के बच्‍चो को जागरूक करने के लिए कई प्रकार के कार्यक्रम किऐ जाते है।

ऐसे कई प्रतियोगिताऐ होती जिसमें छात्र व छात्राऐ भाग लेती है और कुछ नाटक प्रस्‍तुत करती है। नाटक व कार्यक्रम के अनुसार वे सभी शिक्षकगण व विद्यार्थीयो को रेबीज के लिए जागरूक करती है। इस गॉवो में स्‍वास्‍थ्‍ये केन्‍द्रो पर भी रेबीज के प्रति गॉव के लोगो को जागरूक करने के लिए कुछ खास करते है।

Advertisement

दोस्‍तो आज के इस लेख में हमने आपको विश्‍व रेबीज दिवस World Rabies Day in Hindi के बारे विस्‍तार से बताया है। यदि लेख में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो लाईक करे व अपने मिलने वालो के पास शेयर करे। यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद दोस्‍तो……

1 thought on “World Rabies Day in Hindi 2021 | विश्‍व रेबीज दिवस के बारे में यहा से पढ़े”

Leave a Comment